Sankraman ka vakya banao

कोरोना संक्रमण की जांच के लिए दो प्रकार के टेस्ट होते है आरटी- पीसीआर और एंटीजन टेस्ट।

यह एंटीऑक्सीडेंट व्यक्ति को संक्रमण या बीमारी से बचाने में भी अपनी अहम भूमिका निभाते हैं।

यह संक्रमण से बचने का सबसे आसान तरीका है।

कुछ सावधानियां बरत कर आप संक्रमण से बच सकते हैं।

चेहरे पर सूजन साइनस के संक्रमण के वजह से भी नजर आ सकता है।

लगातार बोलने और चिल्‍लाने के वजह से वोकल कॉडर्स में सूजन आ जाती है या संक्रमण हो जाता है।

ये शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं और आपको संक्रमण से बचाने में अहम भूमिका निभाती हैं।

बरसात के कारण हवा में नमी बनी रहती है और इस वजह से संक्रमण जल्दी फैलता है।

किसी प्रकार के जननांग संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति के साथ यौन संबंध न बनाएं।

वैज्ञानिको का मानना है कि म्यूटेशन ना केवल भारत बल्कि दुनिया भर में संक्रमण फैला रहा है।

साथ ही मौसमी संक्रमण से बचाता है।

बहती नाक की वजह से किसी भी काम में मन नहीं लग पाता हैं और संक्रमण की वजह से यह अन्य रोगों का कारण बनता हैं।

यीस्ट संक्रमण महिलाओं में होने वाले सबसे आम संक्रमण में से एक है।

साथ-साथ ही ये पेट में संक्रमण होने से भी बचाता है।

हर कोई कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के समाधान के बारे में हल खोज रहे हैं।

मगर ध्यान रखने वाली बात ये है कि मानसून में ही संक्रमण फैलने और बीमार होने का खतरा ज्यादा रहता है।

नींबू और अदरक दोनों संक्रमण से लड़ने में काफी प्रभावशाली होते हैं।

इससे संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

ज्यादातर मामलों में ऐसे संक्रमण ठीक हो जाते हैं और किडनी में सुधार होता है।

जिसकी वजह से कई मौसमी बीमारियां और संक्रमण हमें चपेट में ले सकता है।

कुछ बैक्टीरियल संक्रमण के कारण गंभीर पेट दर्द हो सकता है और कई सप्ताह तक जारी रह सकता है।

कान में फफूंदी और बैक्‍टीरिया से संक्रमण हो सकता है।

अगर इस समस्‍या की वजह से स्किन में संक्रमण हो जाए तो स्थिति आपके लिए बदत्तर हो सकती है।

ऐसे में उनके संक्रमण की सम्‍भावनाएं बढ़ जाती है।

ऐसा करने से इस संक्रमण के खतरे को काफी कम किया जा सकता है।

इससे न सिर्फ कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं बल्कि तेज बुखार और दस्‍त भी हो सकते हैं।

इसके अलावा संक्रमण से बचाए रखने में भी मददगार है।

इसके अलावा इस मौसम में कान और नाक में फंगल संक्रमण भी बहुत होता है।

इस संक्रमण की वजह से आपके शरीर के अंग भी खराब हो सकते है।

आमतौर पर गंदे और अविकसित क्षेत्रों में बार-बार संक्रमण होता है।

आंखों में जलन दर्द का कारण बनती है और फिर इससे संक्रमण का खतरा रहता है।

अगर पेशाब संक्रमण जल्दी-जल्दी होता है तो डॉक्टर से जरूर मिलें।

यह संक्रमण लोगों में बहुत तेजी से भी फैल सकता है।

अगर ये बैक्‍टीरिया आपके सूजन या घाव के संपर्क में आता है तो आपको संक्रमण भी हो सकता है।

ऐसे व्‍यक्ति के सम्‍पर्क में जाने से बचें जो पहले से किसी संक्रमण या महामारी से पीड़ित हो।

इन मौसमी संक्रमण की जद में कोई भी आ सकता है।

इन सब आदतों से आप इस संक्रमण से बच सकते हैं।

Your Answer