Pareshani ka vakya banao

अधिक आलूबुखारा के सेवन से गैस की परेशानी बढ़ सकती है।

इस परेशानी से बचने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें।

इसमें मरीज को किसी खास तरह की आवाज से परेशानी होती है।

इससे भी परेशानी को दूर किया जा सकता है।

कई बार पैरों के सुन्न पड़ जाने के कारण बहुत परेशानी का भी सामना करना पड़ जाता है।

कोरोना से ठीक होने के बाद भी ये परेशानी बनी रहती है।

बिना रुके हिचकी आना सबकी परेशानी का सबब बन जाता है।

मरीज को कई हफ्तों तक सांस लेने में परेशानी आती है।

यह कोई बड़ी समस्या नहीं है क्योंकि कुछ समय बाद ये परेशानी अपने आप ठीक हो जाती है।

ल्यूकोरिया महिलाओं में यह परेशानी काफी देखी जाती है।

मुझे भीड़ देखकर परेशानी होती है।

अगर आपको मुंह से दुर्गंध आने की परेशानी है तो खाना खाने के बाद एक या दो इलायची चबा लें।

आंखों का पानी सूखने की वजह से देखने में भी परेशानी हो सकती है।

इससे डायरिया की परेशानी जल्द दूर हो जाएगी।

एक्जिमा एक इंफ्लेमेटरी त्वचा की परेशानी है।

एसिडिटी की परेशानी होने पर सीने में जलन पेट में परेशानी और कई अन्य समस्याएं आपको हो सकती हैं।

ऐसी स्थिति में दर्द और परेशानी होती है जिससे राहत पाना जरूरी है।

ऐसे लोग डिप्रेशन या मानसिक परेशानी के शिकार होते है।

कई लोगों में पथरी बनती है और बिना ज्यादा परेशानी के निकल भी जाती है लेकिन अगर पथरी बड़ी हो जाए तो यूरीन के रास्ते में रुकावट पैदा करने लगती है।

इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है।

खासतौर से बच्चों को यह परेशानी जल्दी होती हैं।

आज के समय में हर कोई किसी न किसी बीमारी का शिकार है किसी को कमर दर्द की परेशानी तो किसी को जोड़ों में दर्द।

बदलते मौसम में इस तरह की परेशानी से बचने के लिए डॉक्टर भी स्टीम लेने की सलाह देते हैं।

दीवाली पर पटाखों से निकलने वाला धुआं वायु-प्रदूषण को बढ़ाने के साथ कई लोगों की परेशानी का सबब भी बन जाता है।

अब तो युवाबूढ़े ही नहीं बल्कि बच्‍चे भी एसिडिटी की परेशानी से ग्रस्‍त हो रहे हैं और इस सबका कारण है उनकी अनियमित जीवनशैली और असंतुलित आहार।

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top