khoon ka vakya banao

यूरिन का रंग गुलाबी या लाल होना इस तरफ इशारा करता है कि आपके यूरिनरी ट्रैक्ट में ब्लीडिंग यानी खून का रिसाव हो रहा है।

इस प्रक्रिया की मदद से फेफड़ों में खून का संचार पहले के मुकाबले अच्छा होने लगता है।

इससे खून बहना तुरंत बंद हो जाएगा।

यदि हमारे शरीर का खून साफ रहता है तो हम निरोगी रहते है।

अगर आप हाथों की कलाई पर टाइट रबर बैंड बांध लेती हैं तो इससे खून का दौड़ाव कम हो जाता है।

यह खून में ऑक्सीजन के स्तर को बिगड़ने से नियंत्रित करता है।

ये आपके शरीर में मौजूद खून को पंप करता है और शरीर के सभी अंगों में इसे भेजता है।

अधिक नागकेसर खाने से नाक से खून आने की शिकायत हो सकती है।

गर्मी में बहुत से लोगों को नाक से खून आने की समस्या होती है।

जब हम एक्सरसाइज करते हैं तो शरीर में एकदम से बहुत सारे का खून का बहाव होने लगता हैं।

इनके सेवन से शरीर में खून अच्‍छा बनता है जिससे दिल संबंधी बीमारियां नहीं होती हैं।

इस थेरेपी के माध्यम से हमारे शरीर का गंदा खून निकल जाता है और हमारे शरीर में ऑक्सीजन वाले खून का संचार होता है।

इस बीमारी में दस्त के साथ खून भी आता है।

इसके सेवन से ये शरीर में खून की कमी नहीं होने देता है।

ये खून में शूगर की मात्रा को सही रखता है।

इसके अलावा यह नसों में खून का थक्का जमने की प्रक्रिया को भी बाधित करता है ।

शरीर पर कभी कट लग जाए तो खून में मौजूद प्लेटलेट्स एक क्लॉट बना देती हैं जो खून और बहने से रोकता है।

ये समस्या होने पर पेशाब में झाग या फिर खून भी आ सकता है।

ये खून में शूगर लेवल बरकरार रखता है और डायबिटीज से बचाता है।

पेशाब करते समय उसमें खून आना किडनी खराब होने का एक संकेत हो सकता है।

इससे खून साफ करने की क्षमता कम हो जाती है।

यह खून के थक्के जमने से रोकता है।

मसूड़ों में खून बहने के बड़े कारणों में से एक है विटामिन सी की कमी।

कान से पानी जैसा लिक्विड या खून निकलता है तो इसे इग्नोर बिल्कुल न करें।

इसके सेवन से खून में कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित रहता है जिससे हार्ट अटैक होने का खतरा कम हो जाता है।

इन वजह से भी मसूड़ों में से खून निकलने लगता है।

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top